तरजुमा
I am that woman by Evita Velvet

मैं वह औरत हूँ

अनुवाद : खुर्शीद अनवर

मैं वह औरत हूँ जिसे बर्दाश्त न कर पाओगे
मैं वह औरत हूँ जुदा जिस से न हो पाओगे
मैं वह औरत हूँ हिला दे जो दिमागों की रगें
मैं वह औरत हूँ जो मजबूर मुहब्बत को करे
मैं वह औरत हूँ जो इस तरह तुम्हे तड़पा दे
अपना ही नाम तुम्हे ज़ेहन में भी आ न सके
तेरी माँ प्यार करे देखे मुझे तारों में
मैं वह औरत हूँ जो हंसी भर दे तेरे यारों में
मैं वह औरत हूँ कि जो शब् भर तुम्हे मजबूर करे
बोलते रहने को हर लम्हा कभी जो कह दे
मैं वह औरत हूँ जो चाहे तो बदहवास हो तुम
मैं वह औरत हूँ जो दीवाना बना कर रख दे
मैं वह औरत हूँ कि जलवों से तुम्हे पिघला दे
मैं वह औरत हूँ जो हर काम तेरा बिसरा दे
सारा दिन जिस्म से तुम पीते रहो उसके जाम
किसी वहशी कि तरह जिस्म पे होकर कुर्बान
तुमको बेकाबू यूँ कर दे कि तड़प जाओ तुम
रूह को अपनी ही खुद ढूढ़ भी न पाओ तुम
तुमको मजबूर करे मान लो तुम अपनी शिकस्त
और उदासी में डुबो दे रहे वह दूर अगर
मैं वह औरत हूँ जो मिल जाऊं तो दीवाना बनो
मेरी रग रग में समा जाने का परवाना बनो
तुमको मजबूर करूँ बैठे रहो शब् को यूँ ही
मेरे चेहरे को निहारो मैं जो ख्वाबों में रहूँ
मैं वह औरत हूँ कि नफ़रत भी करो प्यार भी तुम

मैं वह औरत हूँ जिसे भूल सको? नामुमकिन
डॉ. खुर्शीद अनवर
माँ और धरती माँ
लेबल
© 2011 INSTITUTE for SOCIAL DEMOCRACY. ALL RIGHT RESERVED. Powered by: Datapings
Post on Facebook Facebook